हरियाणा की देहाती चुत चुदाई- 3

दिल्ली बॉय

18-11-2020

94,889

Xxx देसी चूत कहानी में पढ़ें कि मैं खेत में अपने भाई को एक औरत की चुदाई करते देख रहा था. तभी उस औरत की बेटी भी वहां आ गयी. फिर मैंने क्या किया?


आपने मेरी पहली कहानी मजदूर औरत की खेत में चुदाई और देसी भाभी को खेत में चोदा पढ़ी होगी. अगर नहीं पढ़ी तो अब पढ़ लो; स्वाद आ जाएगा।


आज मैं उससे आगे की Xxx देसी चूत कहानी लिख रहा हूं।


जैसा कि मैंने आपको बताया था कि ये कहानी गांव में अजीब हालात और अलग ढंग से होने वाली चुदाई है। तो आज फिर से एक और नई चुदाई का मज़ा लो दोस्तो! और आपको मज़ा आया या नहीं … ये मुझे कॉमेंट करके जरूर बताना। आपके कॉमेंट पढ़ने से भी कई बार इतना मज़ा आ जाता है जैसे कोई गर्म चूत मिल गई हो।


मेरी इन कहानियों में बिल्कुल सच वाली घटना होती है.


हमारे खेत में गन्ने की फसल थी तो उसको छोल (साफ करके) मिल में ले जाते हैं। काफी सारी फसल थी तो हमें बहुत सारे मजदूर भी लगाने पड़ते थे।


अबकी बार भाई ने अनीता और सुशीला को भी लगाया था। उनके साथ उनके पति और बच्चे भी आते थे और मैं, बापू और भाई भी जाते थे।


मेरा भाई संजय मुझसे 4 साल बड़ा है और मेरी तरह 6 फुट ऊंचा और चौड़ा आदमी है। मूँछ दाढ़ी रख के हॉलीवुड के हीरो की तरह दिखता है।


हालांकि अब उसकी शादी भी हो गई और एक बेटा भी है। पर मुझे नहीं पता था वो इतना बड़ा खिलाड़ी हैं कि अब भी घर से बाहर चूत चोदता है।


एक दिन पापा को किसी काम से जाना था तो वो खेत से जल्दी आ गए मोटरसाइकिल पर … और मुझे भाई के साथ आने के लिए बोल दिया। तो मैं, भाई और सब काम करते रहे।


संजय ने सुशीला के पति से कहा- अशोक, चल ट्रॉली भरते हैं. काफी समय हो गया. फिर मुझे रात को मिल में जाना है. मैं सुन कर खुश हो गया कि आज शायद मुझे भाभी को चोदने का मौका मिल सकता है।


तो अशोक और कालू (अनीता का पति) दोनों ट्रॉली में गन्ने भरने लगे. मैं उन्हें उठवाने लगा।


भाई कहीं दिख नहीं रहा था तो मैंने ध्यान से देखा तो सुशीला भी गायब थी. पर अशोक इस बात पर ध्यान नहीं दे रहा था और वो काम करने में लगा रहा.


ट्रॉली भरने वाली थी तो पहले सुशीला गन्ने के खेत से निकली और थोड़ी देर बाद संजय भी आ गया। मैं समझ गया कि ये दोनों चुदाई करके आए हैं।


फिर भाई ने मुझे कहा- तू ट्रैक्टर चला कर घेर में खड़ा कर ले. मैं थोड़ी देर में आता हूं. तो मैं आ गया।


अगले दिन भी बापू के आने के बाद ऐसे ही हुआ। तो मैंने सोचा कि कुछ तो गड़बड़ है आज तो इनको पकड़ कर रहूंगा।


अगले दिन अशोक खेत नहीं आया था। वो कहीं गया था. तो मेरा प्लान पक्का हो गया कि भाई आज तो सुशीला की चूत गांड का बाजा जरूर बजाएगा। पर अशोक के अलावा उसकी एक जवान बेटी और कालू, अनीता और में और बापू भी खेत पर ही थे।


तो आज बापू बोला- थोड़ा काम है, तुम कर लो. मैं सोसाइटी जाकर गेहूं का नया बीज ले आऊँ।


उन्होंने मुझे भी साथ चलने को बोला. तो मैंने कहा- पिताजी, मुझे तो अभी रणबीर चाचा के यहां जाना … उन्हें कुछ काम था।


पिताजी बोले- संजय, तू चल … अकेले पे तो ना हो काम! तो संजय ने कहा- पिताजी, आपके साथ कालू चला जा गा. मुझे यहां पानी भी करना!


पिताजी कालू को साथ ले कर चले गए। और मैं भी चाचा का बहाना कर वहाँ से आ गया और देखने लगा कि आज क्या होगा।


मैं थोड़ी दूर जा के खेत में पीछे से घुस गया और उन्हें देखने लगा.


तो भाई ने थोड़ी ही देर में अनीता की तरफ इशारा किया और भाई वहाँ से ट्यूबवेल की तरफ चल दिया और अनीता गन्ने के खेत में आ गई।


भाई भी घूम कर वहीं आ गया तो अनीता बोली- संजय, आज तो मौका मिल ही गया. तो वो बोला- हाँ … नहीं तो रोज यही अडे रहवे थे। चल तू जल्दी कर!


अनीता ने अपनी सलवार खोल दी. संजय ने पीछे से आकर उसको झुका दिया और अपना लौड़ा अन्दर धकेलने लगा.


अनीता बोली- संजय, आराम से करिए, नहीं तो बाहर आवाज चली जा गी। तो संजय बोला- कुछ ना होगा. और धक्के लगाने लगा।


उसने तो अनीता की कमर पकड़ कर स्पीड बढ़ा दी और अनीता साली सिसकारी भर के चुदवा रही थी।


तभी उसकी आवाज तेज हो गईं। और वो रुक गया शायद भाई का पानी निकलने को था।


तो उसने अनीता की कमर छोड़ दी और उसके मुंह से लंड घुसा कर खड़ा हो गया. वो साली रण्डी लंड को चूस रही थी और तभी उनके पास सुशीला भी आ गई.


उसने कहा- मेरा भी नंबर है के? तो भाई बोला- आ जा आज तो तेरी भी गांड ही मारनी! वो हंस पड़ी।


अब भाई ने अनीता को रुकने को बोला और उसे फिर से अपने सामने झुका दिया और उसकी गांड में डाल कर चोदने लगा.


अनीता की हालत अब पतली हो गई. वो अपना मुंह पर हाथ रख कर अपनी आवाज को रोक रही थी. पर फिर भी उसकी आवाज निकल रही थी. भाई किसी हब्सी की तरह बहुत जोर जोर से चोदने में लगा था।


मेरे पास कुछ शोर सुनाई दिया तो मैंने देखा सुशीला की बेटी सोनम भी ये चुदाई देख रही है। वो भी अब जवान हो गई थी। उसका शरीर भी अपनी मां की तरह भरा हुआ था. उसका रंग सांवला था और नाक नक्श बहुत सुंदर थे।


पर मुझे आज तक मौका नहीं मिला उस से बात करने का क्योंकि वो चुप चाप अपना काम करती है और अपनी माँ के साथ ही रहती है।


मैंने अब सोचा कि ये सब तो अपने काम में लगे हैं क्यों ना सोनम की जवानी का रस पिया जाए।


मैं धीरे धीरे से उसके नजदीक चला गया. वो तो मस्त होकर अनीता और संजय की चुदाई देख रही थी।


मैंने उसके पास जाकर उसको पीछे से पकड़ लिया मेरा एक हाथ उसके मुंह पर था और दूसरा हाथ उसके पेट पर! तो वो डर गई, पीछे मुड़ने की कोशिश करने लगी.


पर मैंने उसे नहीं छोड़ा. पर उसने अपनी गर्दन मोड़ कर मेरा चेहरा देख लिया तो वो शांत हो गई. मैंने उसका मुंह छोड़ दिया और उसे बाहर आने को बोला. तो वो मेरे साथ आ गई।


मैंने उसके हाथ को पकड़ा और बोला- चलो ट्यूबवेल पर चल कर बात करते हैं. वो मेरे साथ चल दी पर बोली कुछ नहीं।


हम जब आ गए तो मैंने पूछा- तुम क्या देख रही थी? तो वो अब भी सिर झुका कर खड़ी थी।


मैंने कहा- डरो नहीं सोनम … बोलो तो? उसने मेरी तरफ देखा और बोली- तुमने भी तो देखा.


मैंने कहा- तो तुम चुप क्यों खड़ी थी? तो वो बोली- क्या फायदा … मेरी माँ का तो रोज का ये ही काम है।


मैंने कहा- तुम्हें कुछ परेशानी नहीं है? तो वो बोली- मुझे क्या फ़र्क पड़ता है।


मैंने उसे कहा- तो तुम मेरे साथ कर लो! तो वो बोली- मेरी मां को पता चला तो मेरी गांड तोड़ देगी। मैंने कहा- कुछ नहीं पता चलेगा. देख वो तो सब लगे हुए हैं. हम दोनों भी करते हैं, 5 मिनट तक हो जाएगा।


वो थोड़ी नानुकुर करती रही पर अंडर से वो भी कुछ कर गुजरना चाहती थी।


पर मैं कहाँ रुकने वाला था … मैं उसको बांहों में भर कर उसके होंठ चूसने लगा। वो हाथ से मुझे धका रही थी पर मैं इतना लंबा चौड़ा और वो मेरे सामने हल्की सी थी।


मैंने उसको पकड़ कर उठाया और ट्यूबवेल के कमरे में ले गया और कमरा बंद कर दिया. वो मुझसे डर सी रही थी.


तो मैं बोला- देख तेरी माँ भी तो चूत मरवा रही है. अगर मैंने तेरे बाप को बताया तो? वो अब शांत हुई. तो मैंने कहा- आराम से करेंगे. मैं कोई जबरदस्ती नहीं चोदूंगा।


वो अब तैयार हो चुकी थी.


मैंने अपने कपड़े उतार दिए और लंड हाथ में पकड़ कर उसे इशारा किया तो वो बैठ कर चूसने लगी। मैंने उसका सिर पकड़ लिया और उसके मुंह में जोर जोर से चोदने लगा।


थोड़ी ही देर में मेरा पानी निकल गया उसके मुंह में मैंने उसका सिर छोड़ दिया. पर को अब भी मेरा लौड़ा चूस रही थी। उसने जीभ से चाट चाट कर मेरा लंड साफ़ कर दिया और फिर से मुंह में ले लिया और चूसने लगी।


लंड खड़ा होने तक वह चूसती रही।


फिर उसने अपने कपड़े उतार दिए और बोली- देखो, गांड तो मैं दूंगी नहीं … चूत में करना है तो कर लो।


मैं उसका ऐसा बर्ताव देख चौंक गया. वो तो किसी पक्की रण्डी की तरह बोल रही थी।


मैंने उसको नीचे लिटाया और उसकी चूत में घुसा दिया और धक्के लगाने लगा.


वो तो मज़े से चुदवा रही थी जैसे रोज ही चुदाती हो! मेरा लंड छोटा सा नहीं है. 8 इंच का होगा पर उसको कोई फ़र्क नहीं पड़ रहा था।


मैंने पूछा- तू आज पहली बार नहीं चुदवा रही है? तो वो बोली- नहीं, तेरा भाई आज पहले कितनी बार तो चोद चुका है। जब से गन्ने की छूलाई शुरू हुई, तब से उसने मेरी चूत का भोसड़ा बना दिया है। साले ने एक दिन तो खून ही निकाल दिया।


मैंने पूछा- तेरी माँ को पता है? तो वो बोली- हाँ, उस रांड ने ही तो मेरी चुदवाई करवाई थी। वो तो मैंने मना कर दिया वरना मेरी गांड भी फाड़ देता।


मैंने कहा- कोई बात नहीं सोनम … तेरी गांड मैं फाड़ दूंगा। तो वो मना करने लगी.


पर मैंने उसकी टांग उठा कर कंधे पर रख ली.


वो उठने की कोशिश करने लगी,. उसे पता चल गया कि अब उसकी गांड फटने वाली है.


पर मैंने उसे छोड़ा नहीं … और लंड उसकी गांड़ में घुसाने लगा. पर घुसा नहीं. उसकी गांड का छेद बहुत छोटा था.


तो मैंने उसकी टांग को उसके मुंह की तरफ मोड़ दिया जिससे उसको बहुत दर्द हुआ. वो बोली- ऐसा मत करो. मैं गांड दूंगी. रुको, ऐसा मत करो.


तो मैं रुक गया और उसके पैर फिर से अपने कंधे पर रख दिए।


अब मैंने अपने एक हाथ से उसकी गांड का छल्ला खोला और उसमें थूक भर दिया. वो बोली- लंड पर भी लगा लो. तो मैंने कहा- तू ही लगा दे!


वो खड़ी हो गई और अपने मुंह में लंड लेकर उसे थूके भिगो दिया और फिर खुद ही लेट गई। मैंने उसको घोड़ी बनने को कहा तो बोली- नहीं, ऐसे ही करो.


तो मैं बोला- अच्छा तो कुतिया ही बन जा! वो डॉगी स्टाइल में आ गई.


मैंने अपना लौड़ा उसकी गांड के ऊपर रखा और धीरे धीरे से अन्दर धकेलने लगा.


वो डरी हुई थी क्योंकि मेरा भाई उसकी माँ और अनीता जो बहुत बुरी तरह चोदता है. शायद उसकी चूत भी बुरी तरह ही चोदी होगी।


पर मैंने आराम से अन्दर अपना लंड उसकी गांड के अंडर धकेल दिया. उसको दर्द नहीं हुआ तो वो बोली- कितना बड़ गया? तो मैंने बोला- आधा!


वो बोली- तेरे भाई ने एक दिन पूरी जोर से धक्का मारा, मेरी गान्ड ही फाड़ दी होती. मैं तो उठ कर भाग गई. और उस दिन से उसे चूत भी नहीं दी। पर तू तो आराम से कर रहा है।


मैंने और थोड़ा अंदर किया तो वो फिर भी शांत थी.


तो मैंने अब पूरा ही डाल दिया. उसको दर्द नहीं हुआ क्योंकि भाई पहले ही उसकी गांड खोल चुका था।


मैंने अब धक्के लगाने शुरू किए और सोनम भी मज़े से चुदवा रही थी। फिर मेरा पानी निकल गया।


वो बोली- तेरे साथ तो मज़ा आया। अब मैं तो तेरा ही लंड लूंगी। अब तो जाने दे … बाद में चोद लिए और। वो कपड़े पहन कर चल दी.


मैं भी थोड़ी देर बाद उसके बाद खेत में आ गया तो वहां सब थे।


संजय बोला- घर ना गया तू अब तक? मैं बोला- चाचा खेत पर ही मिल गए थे तो मैं वापस आ गया।


फिर हम सब खेत से आ गए। सोनम रास्ते में मुझे आंख मार कर इशारा कर रही थी.


अब तो मैं सोनम को कई बार चोद चुका था. मेरे भाई को भी पता चल गया पर उसने मुझे कुछ नहीं कहा। शायद सुशीला ने बताया होगा। उस बहन की लौड़ी के पेट में कुछ नहीं पचता।


पूरा सीजन हम दोनों ने भरपूर चुदाई कर कर मज़े लिए।


Xxx देसी चूत कहानी में मजा आया या नहीं? कमेंट्स करें.


Teenage Girl

ऐसी ही कुछ और कहानियाँ